Saturday, January 5, 2008

आवाज़ बुलंद हो



उठाया है हमने जो पहला क़दम
किया है ख़ुद से वादा ली है क़सम
कि कोई चीख़ कोई आह गुम न हो
आंख डरी न हो चेहरा सहमा न हो
ज़ुबां ख़ामोश न हो सवाल थमा न हो
सच आज़ाद हो उन्मुक्त हो ज़िन्दा हो
जंजीरों में छटपटाता झूठ ख़ुद पर शर्मिन्दा हो
क्यूं न हम एक मशाल बनें
अंधेरे को चीरती लौ विशाल बनें
क्यूं न हम लोगों का विश्वास बनें
हर मुश्किल में उनकी आस बनें
इस सबके बीच ख़्याल बस इतना रहे
ये रास्ता आसान नहीं है
पर नामुमकिन भी तो नहीं
तो साथियों हौसला मंद न हो
आवाज़ सदा बुलंद हों


ये कविता तब लिखी गई थी जब पत्रकारिता की दुनिया में क़दम रखा ही था और तस्वीर के सारे पहलुओं से वाक़िफ़ नहीं था। इस बीच नदी में काफ़ी पानी बह चुका है और कई नई चीज़ों से दो चार भी हुआ हूं लेकिन ख़ुशी इस बात की है कि इन पंक्तियों पर भरोसा पहले से मज़बूत ही हुआ है।

4 comments:

  1. very very inspirational poem,hausla sadaiv buland ho.

    ReplyDelete
  2. अच्छी सोच...साहित्य जगत में काफी उम्मीदें हॆं आपसे...बधाई
    विक्रम

    ReplyDelete
  3. भाई प्रबुद्ध देश को हमारे जेनरेशन से बहुत उम्मीदें हैं। हमें ही बदलाव का वाहक बनना है। सौ करोड़ जनता की उम्मीदों पर खड़ा उतरना इतना आसान भी नहीं है। आवाज़ तो बुलंद करना ही होगा। बहुत अच्छी कविता है। लिखना जारी रहे.....।

    ReplyDelete
  4. तुम्हारी विचारधारा को पढ़ कर मेरी आंखों से आंसू की धारा बह चली....कमाल कर दिया तुमने मेरे जिगर के छल्ले

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी से ये जानने में सहूलियत होगी कि जो लिखा गया वो कहां सही है और कहां ग़लत। इसी बहाने कोई नया फ़लसफ़ा, कोई नई बात निकल जाए तो क्या कहने !