Monday, January 19, 2009

जब प्रधानमंत्री आम आदमी बने !


प्रधानमंत्रीजी आम आदमी बन गए। टीवी से लेकर अख़बारों तक में यही सुर्ख़ियां। भई आम आदमियों की तरह पीएम साहब अपना लाइसेंस रिन्यु कराने आरटीओ दफ़्तर जा पहुंचे। इससे ज़्यादा वो आम आदमी साबित करने वाला क्या काम करते? जब वो 11 बजे पीएम आवास से निकले तो वहां से आईटीओ स्थित आरटीओ दफ़्तर तक के रास्ते को आम ट्रैफ़िक के लिए रोक दिया गया। अरे, नहीं समझे? अपने पीएम आम आदमी बनने जा रहे थे। फिर निकले आम आदमी बनने की हसरत लिए पीएम साहब। वो न ऑटो में निकले, न बस में, न मेट्रो में और न ही अपनी मारुति 800 में। वो निकले तो दसियों गाड़ियों के काफ़िले के साथ। दिन रविवार का था लेकिन कोई बात नहीं पीएम साहब को आम आदमी बनाने के लिए रविवार को भी दफ़्तर तो खोला ही जा सकता है। पीएम साहब से प्रार्थना की गई थी कि लाइसेंस उन्हें पीएम आवास में ही सारी औपचारिकताएं पूरी कर दिया जा सकता है। लेकिन अगर ऐसा होता तो पीएम आम आदमी कैसे बन पाते। इस पूरी क़वायद में जो हज़ारों आदमी परेशान हुए वो सारे भी 'आम' थे लेकिन वो पेड़ से गिर गए हैं जबकि पीएम साहब अभी पेड़ पर ही लटके हुए हैं।