Sunday, February 1, 2009

बाज़ार तुम महान हो !

ये बाज़ार कब मुझे चौंकाने से बाज आएगा। जब लगता है कि अब इसकी चाल थोड़ी-थोड़ी समझने लगा हूं तभी साला ऐसी गुलाटी मारता है कि सारी समझ की ऐसी-तैसी हो जाती है। अब देखिए न...उधर मैंगलौर में पावर के नशे में धुत कुछ लोगों ने लड़कियों को पब से निकाला इधर देश की राजधानी महिलाओं को दारु पिलाने के लिए बिछी जा रही है। नोएडा का मशहूर डिस्को थिक कह रहा है कि मैंगलौर में जो कुछ हुआ उसके विरोध में हम महिलाओं को आदमियों से बेहतर डील देंगे। यानी जमकर दारु पिओ बिना किसी हिच्च...माफ़ कीजिएगा....मेरा मतलब बिना किसी हिचक के। जीके के फ़ेमस नाइट स्पॉट में इस बुधवार की रात होगी- 'Everything free for girls' नाइट। वाह, दिल गार्डन-गार्डन हो गया ये सब जानके। कुछ के मुंह में ये सुन के दारु भी आ रही होगी। वसंत विहार के रेस्ट्रॉं ने साफ़ एलान कर दिया है - 'Girls have a right to party! ये उस ख़ास शाम का नाम है जो रेस्ट्रॉ ने अपनी महिला ग्राहकों के लिए आयोजित की है। अब ये सब पता लगने के बाद अगर कुछ पुरुष सोचने लगें कि काश वो महिला होते तो मैं उन्हें क़तई दोषी नहीं ठहराऊंगा। दारु के लिए कुछ भी करेगा...ख़ुश रहने के लिए पीना ज़रुरी है न...बिन पिए...क्या जिए ! ये सारी चीज़ें बाज़ार से बेहतर कौन समझ सकता है। ये तो उन बेचारों को भी नहीं पता जो इस पूरी घटना की मुख़ालफ़त में झंडा बुलंद किए हुए हैं। पहले फ़्री की दारु पिला-पिला के लत लगा दो...फिर 'ख़ुश रहने के हक़' को अंजाम देने के लिए क़दम ख़ुद ब ख़ुद अड्डों की तरफ़ बढ़ चलेंगे। हे ! चतुर, चालाक, शातिर बाज़ार -तुझे मेरा कोटि कोटि नमन !

2 comments:

  1. bazar mahan hi hai , aapne theek likha hai ek bada sasta sa joke yaad aaya par manch sarvjanik hai is liye niagal liya hai.

    ReplyDelete
  2. मेरा भी कोटि कोटि नमन !

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी से ये जानने में सहूलियत होगी कि जो लिखा गया वो कहां सही है और कहां ग़लत। इसी बहाने कोई नया फ़लसफ़ा, कोई नई बात निकल जाए तो क्या कहने !